Thursday, February 19, 2009

नारी शिक्षा का लक्ष्य केवल विवाह ही नही


सदियों से सम्पूर्ण पृथ्वी पर पुरूष का एकाधिकार रहा है , चाहे वह क्षेत्र लडाई का हो , विज्ञानं का हो , खेल कूद का हो , या राजपाट का क्षेत्र हो । अब , इक्कीसवीं सदी में स्त्रियों का वर्चस्व भी हर क्षेत्र में छाने लगा है , डॉक्टर , इन्जीनियर , वैज्ञानिक , खिलाड़ी , पायलट , ड्राइवर , स्वीमर हो या गृहणी या फ़िर देश की राष्ट्रपति हो या प्रधानमंत्री हर तरफ़ महिलाएं अपने बुद्धि कौशल का परिचय दे रहीं हैं । हालाँकि पुरूष के सहयोग के बिना स्त्री एक कदम भी आगे नही जा सकती यह भी सत्य है ।

बहुत पहले भारतीय परिवार में बेटियों को सिर्फ़ अक्षर ज्ञान कराया जाता था , आज शिक्षा के मायने ही बदल गए हैं । आज की नारी हर प्रकार के उद्धोग , कारखाने , ऑफिस , होटल , राजनीति वकील हर विषय में पारंगत हो नौकरी कर रही है । वे समझने लगी हैं कि शिक्षा का उनके जीवन में क्या महत्त्व है । जो माता -पिता बेटी की शिक्षा केवल विवाह के लिए ही करना चाहते हैं उन्हें भी समझ आने लगा है कि शिक्षा बेटी और बेटे दोनो के लिए आवश्यक है ।

पाश्चात्य संस्कृति का प्रभाव हमारे समाज पर तेजी से पड़ रहा है । फिरभी बेटियाँ अच्छी शिक्षा पाकर लड़कों से आगे आ रही हैं । उन्हें हर क्षेत्र में ललकार रहीं हैं । आजीविका की शिक्षा तो हर किसी के लिए परमावश्यक हो गई है । माता -पिता भी यही सोचने लगे हैं कि बच्चे पढ़ लिखकर आत्मनिर्भर हो जाय तो योग्य वर या वधु मिलने में भी देर नही होगी ।
आज के युवा वर्ग की चाहत कोई साडी में लिपटी गुडिया नही है , उन्हें जीवन साथी के रूप में संस्कारवान और शिक्षित साथी चाहिए । इसलिए माता -पिता को चाहिए की बेटी की शिक्षा केवल विवाह के लिए हो ऐसा न सोचें , इसी बात को दूसरी तरह कहा जा सकता है कि भारतीय आत्मा में डूबी , पाश्चात्य संस्कृति में लिपटी , मोहनी ही हर युवा की पसंद है , पुरूष वर्ग से दूरी बनाकर , शर्म की चादर में लिपटी कन्या को आधुनिक समाज अशिक्षित ही मानता है ।
आधुनिक बदलाव का लबादा पहनना भी सभी के लिए जरूरी हो गया है , क्योंकि हमारा समाज , संस्कृति और सभ्यता तो परिवर्तनशील है , इतिहास भी गवाह है । भोगोलिक उथल -पुथल के साथ सब कुछ बदल जाता है । हमें विशेष रूप से हमारे बुजुर्गों को बदलाव स्वीकार कर लेना चाहिए ।
अपने भविष्य के लिए बेटियाँ भी निर्णय ले रही हैं । स्वयं ही विषय का चुनाव करती हैं उन्हें क्या पढ़ना है क्या नही , जनसँख्या पर अंकुश लगाने वाले माता -पिता जो सिर्फ़ बेटियों के माता -पिता हैं उन्होंने रूडियों को तोडा है । वे जानते हैं कि बेटी भी वंश चला सकती है ।उन्होंने बेटे और बेटी के फर्क को मिटा दिया है । उनका उद्धेश्य अच्छी शिक्षा देना और संस्कार देना है । माता -पिता के नाम का परचम बेटियाँ ही लहरा रहीं हैं ।
हमें बेटे बेटी के फर्क को मिटा कर संतान को पालना चाहिए । उन्हें उचित शिक्षा और ज्ञान देना चाहिए । रेनू ......

3 comments:

समयचक्र said...

सहमत हूँ.बढ़िया लेख. धन्यवाद.

समयचक्र said...

सहमत हूँ.बढ़िया लेख. धन्यवाद.

अंशुमाली said...

सामाजिक बदलाव सिर्फ शिक्षा से ही संभव है। हमें कोशिश करनी चाहिए कि हर बेटी पढ़े और बढ़े।