Saturday, June 20, 2009

चाँद आहें भरेगा .....


सुना है नासा के वैज्ञानिक पूरी दुनिया के वैज्ञानिकों के साथ मिलकर चाँद मामा के पीछे पड़े हुए हैं । अभी तक तो , चाँद का वार्तालाप मौन ही चल रहा था । हमारी कल्पनाओं मैं वह कभी प्रेमी , कभी धोखेबाज , कभी मनुहार सुनने वाला , कभी सहायक , कभी जज बनता नज़र आता था लेकिन अब , बेचारे की सहमत आई हुई है ।

धरती का जुगाडू प्रेमी कभी प्रेमिका के साथ चाँद पर जाना चाहता था , फ़िर वहां से तारों की सैर करने जाना चाहता था , रति विहार के लिए कहाँ से कहाँ तक , कुलांचें मारता है प्रेमी । वैसे , देखा जाय तो कल्पना बुरी नही है । हजारों संगीत मय प्रस्तुतियां चाँद को रिझाने के लिए ही की गईं हैं । श्रृंगार रस का प्रेमी तब यह नही जानना चाहता था कि वहां क्या सुविधा है क्या नही है ।

अब , वैज्ञानिक चाँद पर धमाका कर पानी का कुंद ढूंढने का प्रयास करेंगे . हाँ , जब धरती पर पानी सूख जाएगा तब , इनके पास कोई और चारा भी तो नही । इन्हें चाँद के आंसुओं की कोई परवाह नही है । कोई वहां फूलों की खेती करना चाहता है , कोई वहां बस्ती बसाना चाहता है , कोई वहां की भूमि के टुकड़े कर वसीयत बनाना चाहता है , यह कैसी जंग है ?

पृथ्वी के कण -कण से पानी को सुखा दिया , एक -एक वृक्ष का रस चूस लिया , तिनका -तिनका नोच लिया , अब , चाँद को घूर रहे हैं । जो मानव जाति अपनी धरती को नही बचा पाए , पंचतत्व का नाश कर रहे हैं , वे चाँद पर जाकर विनाश करना चाहते हैं ।

अब , बेचारा चाँद आहें भी भरे तो , कौन सुनने वाला है । ईश्वर सबको सद्बुद्धि दो ।

रेनू ...

7 comments:

श्यामल सुमन said...

आपकी चिन्ता जायज है।

कोशिशें आशियां चाँद पर भी बने।
हमको डर चाँदनी कैद हो जाये कब।।

हाँ मुझे लगता है कि आपके इस वाक्य "बेचारे की सहमत आई हुई है" में शामत की जगह सहमत लिखा गया है। साथ ही वर्ड वेरीफिकेशन भी हँटाने का उपाय करें।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
www.manoramsuman.blogspot.com
shyamalsuman@gmail.com

ओम आर्य said...

wow ,bahut hee badhiyaa ..........satik kataaksh ......sundar abhiwyakti ........bahut badhiya

ओम आर्य said...

wow ,bahut hee badhiyaa ..........satik kataaksh ......sundar abhiwyakti ........bahut badhiya

‘नज़र’ said...

आपने बहुत अच्छा लिखा है


---
चर्चा । Discuss INDIA

महेन्द्र मिश्र said...

चाँद आहे भरेगा ...फूल दिल थाम लेंगे.
बहुत ही बढ़िया आलेख लिखा है आपने . धन्यवाद.

vandana said...

bahut hi badhiya lekh likha hai.......shayad padhkar kuch jagriti ho logon ki vichardhara mein.

Udan Tashtari said...

हम भी यही कह सकते हैं:

ईश्वर सबको सद्बुद्धि दो ।